Thursday, May 10, 2012

bhuut chaar

     मुझे नीद ,   की गोली दी गयी और मैं सो गया .................
        सुबह जब आँख खुली .......मेरे सामने झाड -फूंक करने वाला 
         ओझा बैठा था ......वह मुझे मंत्रो को पढ़ के फूंक रहा था ....
         और कुछ अनाप -सनाप बकता रहा ............मेरे माता -पिता को यह 
         समझा के गया ........मुझे किसी औरत के भूत  ने पकड रखा है ......
                 
                       यह औरत पिछले जन्म में इसकी पत्नी थी .....और तुम्हारे 
            बेटे ने इसका खून कर दिया था .....किसी औरत के चक्कर में ......
         बस अब एक ही रास्ता है तुम्हारे बेटे और उस भूत के साथ शादी कर 
          दी जाय ............तब कहीं यह हो सकता है वह औरत छोड़ के जा सकती है 

                            मैं भी यह सब सुन रहा था .....मेरे साथ यह सब लोग क्या करना 
           चाहते है .......माँ को बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन उनकी बात समझ में नहीं आयी 


                मेरी शादी की तैयारी होने लगी ....यह सब क्या हो रहा .....आज के जमाने में यह सब 
               फिर एक दिन सब कुछ तैयार किया गया ......एक लड़की क़ा पुतला बनाया गया और जिस से 
                  मेरा विवाह हुआ ........उसी ओझा ने सब कुछ किया ............
                                  
                                 उसने खूब पैसे लिए घरवालों से ........और कह के गया अब वह लड़की अब आप के बेटे को तंग नहीं करे गी 
                    ..........दिन बीतने लगे उस भूत औरत ने फिर मुझे तंग नहीं किया ........क्या सच मुझे नहीं मालूम 
                    हाँ पर एक बात जरुर सच है ..........


                                      अब वह औरत मेरे सपने में नहीं आती         ........पर मुझे ऐसा लगता है कोई औरत मेरे बगल 
                     जरुर लेती रहती है .....और कहती है किसी और औरत से शादी की तो मैं तुम्हे मार डालूंगी ..........

                               आज तक मैं कुँआरा  ही माँ ने बहुत कहा लेकिन मैंने शादी नहीं की ........

                      आज बीस वर्ष हो गये .......जीवन मेरा शान्ति से बीत रहा है ...........

Wednesday, May 9, 2012

bhut teen

मैं घर की तरफ चल दिया ......रात का कोई एक बज  रहा था  ,कोई टैक्सी या ऑटो 

भी नहीं मिल रहा था .....लग रहा था पैदल ही घर तक जाना पड़े गा .......कुछ दूर तक ऐसे ही 

पैदल चलता रहा ........ऑटो के आने की आवाज सुन कर मैंने पीछे को  देखा .........एक ऑटो 

आता हुआ नज़र आया .........

              मैंने हाथ दिखा के रोका उसे .................मुझसे कुछ दूरी पे जा के रुक गया .......दौड़ के 

पास पहुंचा ...........देख के दंग  रह गया उसमे निशा ही बैठी हुई थी .....आइये मुझे भी चार बँगला 

जाना है ........(सोचने लगा इसे कैसे मालुम मुझे चार बँगला जाना है )

                 मैं ऑटो में बैठ गया ...........कुछ बात करना चाहता था , पता नहीं क्यों चुप ही रहा ..........

ऑटो चलता रहा ......चार बंगले पे आ के ऑटो रुका मैं ऑटो से  बाहर आया ......फिर मैंने ऑटो 

ड्राईवर से कहा मेडम को छोड़ दो जहाँ यह जाना चाहती हैं ...........

                  साहब किस मेडम की बात कर रहें है ...........आप तो  अकेले ही आये थे ........किसको 

छोड़ने की बात कर रहे हैं ..............


                सुबह जब आँख खुली तो माँ बता रही थी तू बिल्डिंग के सामने बेहोश पडा था 

..........................निशा भूत  ही थी ...............कोई सीरियल नहीं बन रहा था ...मुझे ऐसा लगा  

Tuesday, May 8, 2012

bhut -do

जो लड़की मेरे बगल आ के बैठी ....उसकी शक्ल ....................बिलकुल श्यमा से हुबहू मिलती 

थी .....मैं उसके बगल इस तरह बैठा था ,,,,,,,जैसे किसी कसाई के पास बकरा बैठा रहता है 

मेरी हिम्मत नहीं हुई उससे बात करने की ......एक भय  मेरे अन्दर इस तरह बस गया था ,जो 

निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था ........उसका शरीर मेरे देह से जब लगता .....उसका ठंडा पन 

शरीर का .......मुझे कपकपा जाता था 

                बस एक होटल के पास रुकी .......मैं उठा बाहर जाने को ........मुझसे उसने कहा एक बोटेल 

पानी ला दीजयेगा .........मैंने उसकी तरफ देखा ........वह पैसा देने लगी .......मैंने लिया नहीं और बस से बाहर 

आ गया .......दूकान पे आया ...कुछ सोचते हुए ....यह भूत  कहीं मेरे पीछे तो नहीं  पड गया .......

कुछ देर बाद मैं एक बाटेल पानी ले कर आ गया ..........


                 सीट पे वह नहीं थी .............मुझे लगा कहीं नीचे गयी हो गी ........बस चल दी .......मैंने कंडक्टर 

से कहा अरे वह औरत कहाँ गयी जो मेरे बगल बैठी थी ...............

          कंडक्टर ने मेरी तरफ देखा ..........और हंसने लगा ......मैं समझा नहीं ....पूछा क्या हुआ ?

कुछ नहीं ...उस कंडक्टर ने कहा .........आप के बगल कोई नहीं बैठा था ......आप क्या कोई सपना 

देख रहे थे ...........आधी से ज्यादा तो बस खाली है और आप कह रहे हैं ................

                भाई मैं सच कह रहा हूँ मेरे बगल एक औरत बैठी थी उसी के लिए यह पानी लाया हूँ 

..............यह देखिये ....यह बोतल है 


..............वहां  बैठे सभी चुप हो गये .....वह लोग मुझे ..सनकी  समझने लगे ...........बस चली जा रही थी 

पनवेल के आगे बस आ चुकी थी .................

                  मैं कंडक्टर के पास आया ........और उससे कहने लगा ...........मैं सच कह रहा हूँ मेरे  बगल 

एक औरत बैठी थी .........

कंडक्टर फिर से मुस्कराया ...........और कहने लगा .......आप सच कह रहे हैं ..आप के बगल एक लड़की 

बैठी थी ...........यह टी वी वाले हैं ...............बस में बैठे सभी हंसने लगे 

यह सब लोग एक डरावना सीरियल बना रहे हैं ............और मुझे भी यह सब झूठ बोलना पड़ता है ..


            तभी डायरेक्टर मेरे पास आया और सभी को मिलाया .....................उस औरत से भी मिलाया 

श्यामा का नाम निशा बतलाया ...............पहली भी घटना को भी बताया .............किस तरह से इन सभी 

लोगो ने मुझे बेवकूफ बनाया था .............जिसमें श्यामा को चाकू  से मारा था ..........


           निशा को मैं देखता रहा ................. वह भी आँखों से मुस्करा रही थी ....आज फिर से मेरी 

..............आँखे चार हुई .......नज़र का नज़र से मिलना ...........

....................










Monday, May 7, 2012

bhut

नज़र को मालूम था ,नज़र का मिलना ...........बस यही हमारी पहली मुलाक़ात थी . . 

दो दिन बाद मैंने उसका नाम जाना ........श्यामा  अपने आप को कहती थी ........

उसका कोई नहीं था इस संसार में ..............यह सब उसी ने बताया था .........घर उसका 

प्रभात रोड पे था .............बहुत बड़ा मकान था उसका ......कई कमरे थे उसमें .....हर 

कमरा खूब सजा हुआ था .................इतने बड़े घर की देखभाल करना ..............

           रात को कोई दस बजे उसके घर से निकला .......रास्ते  भर सोचता रहा ...........कौन 

है........... यह लडकी ?वह रात मैं सो नहीं सका ........उसका घर ....उसका अकेला -पन   .....

और यूँ अकेले रहना समझ नहीं पा रहा था .................

                              दूसरे  दिन .....मैं देर तक सोता रहा ..........आँख खुलने के बाद सोचता रहा ...........

कौन है यह  ?मैं बहुत मामूली घर का था ......इतनी रहीश लड़की से पहचान रखना गलत होगा 

...............शाम हो चुकी था उसका फोन आया और मिलने की नबात कहने लगी मैंने बहाना बनाया 

.................और उससे मिलने नहीं गया .................

                             रात का कोई दस बजा हुआ था ......मन ने ऐसा कहा चलो उसके घर की तरफ जाते हैं 

अपना शक मिटाते हैं ...........उसके घर के करीब पहुंचा   घर के बाहर एक बड़ी सी कार खडी थी ........

ऊपर के कमरे की लाईट जल रही थी ...मुझे कुछ शक सा हुआ ...............मैं घर में घुसा और ऊपर जा पहुंचा 

दो आदमी कोई तीस साल के होंगे श्यामा को समझा रहे थे ............और गुस्से में दस्खत करने को कह रहे 

थे ........फिर जबरदस्ती करने लगे .......श्यामा मन गयी .........फिर जो हुआ मैं कह नहीं सकता 

..................उन दोनों लडकों ने जेब्जेब से चाकू निकाला और श्यामा को मारने लगे ...........मैं 

घबरा  के  वहाँ से भाग निकला ..................

        सुबह अखबार देखते  ....... इस बात की खबर जाना चाहता था श्यामा बची या मर गयी ....................

थोड़ी देर बाद श्यामा का फोन  आया  ................और शाम को मिलने की बात करने लगी ..................

              क्या वह मारी नहीं ............रात को .......

       मुझे याकीन हो गया ......श्यामा जरुर ही कोईभूत  ही है ...................

कुछ महीनो बाद मैं बस से मुम्बई जा रहा था ................
मेरे बगल की सीट खाली ................

लोनावाला में एक लड़की चढी और मेरे बगल आ के बैठ गयी ...........................

यह श्यामा थी ...............