Tuesday, May 8, 2012

bhut -do

जो लड़की मेरे बगल आ के बैठी ....उसकी शक्ल ....................बिलकुल श्यमा से हुबहू मिलती 

थी .....मैं उसके बगल इस तरह बैठा था ,,,,,,,जैसे किसी कसाई के पास बकरा बैठा रहता है 

मेरी हिम्मत नहीं हुई उससे बात करने की ......एक भय  मेरे अन्दर इस तरह बस गया था ,जो 

निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था ........उसका शरीर मेरे देह से जब लगता .....उसका ठंडा पन 

शरीर का .......मुझे कपकपा जाता था 

                बस एक होटल के पास रुकी .......मैं उठा बाहर जाने को ........मुझसे उसने कहा एक बोटेल 

पानी ला दीजयेगा .........मैंने उसकी तरफ देखा ........वह पैसा देने लगी .......मैंने लिया नहीं और बस से बाहर 

आ गया .......दूकान पे आया ...कुछ सोचते हुए ....यह भूत  कहीं मेरे पीछे तो नहीं  पड गया .......

कुछ देर बाद मैं एक बाटेल पानी ले कर आ गया ..........


                 सीट पे वह नहीं थी .............मुझे लगा कहीं नीचे गयी हो गी ........बस चल दी .......मैंने कंडक्टर 

से कहा अरे वह औरत कहाँ गयी जो मेरे बगल बैठी थी ...............

          कंडक्टर ने मेरी तरफ देखा ..........और हंसने लगा ......मैं समझा नहीं ....पूछा क्या हुआ ?

कुछ नहीं ...उस कंडक्टर ने कहा .........आप के बगल कोई नहीं बैठा था ......आप क्या कोई सपना 

देख रहे थे ...........आधी से ज्यादा तो बस खाली है और आप कह रहे हैं ................

                भाई मैं सच कह रहा हूँ मेरे बगल एक औरत बैठी थी उसी के लिए यह पानी लाया हूँ 

..............यह देखिये ....यह बोतल है 


..............वहां  बैठे सभी चुप हो गये .....वह लोग मुझे ..सनकी  समझने लगे ...........बस चली जा रही थी 

पनवेल के आगे बस आ चुकी थी .................

                  मैं कंडक्टर के पास आया ........और उससे कहने लगा ...........मैं सच कह रहा हूँ मेरे  बगल 

एक औरत बैठी थी .........

कंडक्टर फिर से मुस्कराया ...........और कहने लगा .......आप सच कह रहे हैं ..आप के बगल एक लड़की 

बैठी थी ...........यह टी वी वाले हैं ...............बस में बैठे सभी हंसने लगे 

यह सब लोग एक डरावना सीरियल बना रहे हैं ............और मुझे भी यह सब झूठ बोलना पड़ता है ..


            तभी डायरेक्टर मेरे पास आया और सभी को मिलाया .....................उस औरत से भी मिलाया 

श्यामा का नाम निशा बतलाया ...............पहली भी घटना को भी बताया .............किस तरह से इन सभी 

लोगो ने मुझे बेवकूफ बनाया था .............जिसमें श्यामा को चाकू  से मारा था ..........


           निशा को मैं देखता रहा ................. वह भी आँखों से मुस्करा रही थी ....आज फिर से मेरी 

..............आँखे चार हुई .......नज़र का नज़र से मिलना ...........

....................










No comments:

Post a Comment