Wednesday, May 9, 2012

bhut teen

मैं घर की तरफ चल दिया ......रात का कोई एक बज  रहा था  ,कोई टैक्सी या ऑटो 

भी नहीं मिल रहा था .....लग रहा था पैदल ही घर तक जाना पड़े गा .......कुछ दूर तक ऐसे ही 

पैदल चलता रहा ........ऑटो के आने की आवाज सुन कर मैंने पीछे को  देखा .........एक ऑटो 

आता हुआ नज़र आया .........

              मैंने हाथ दिखा के रोका उसे .................मुझसे कुछ दूरी पे जा के रुक गया .......दौड़ के 

पास पहुंचा ...........देख के दंग  रह गया उसमे निशा ही बैठी हुई थी .....आइये मुझे भी चार बँगला 

जाना है ........(सोचने लगा इसे कैसे मालुम मुझे चार बँगला जाना है )

                 मैं ऑटो में बैठ गया ...........कुछ बात करना चाहता था , पता नहीं क्यों चुप ही रहा ..........

ऑटो चलता रहा ......चार बंगले पे आ के ऑटो रुका मैं ऑटो से  बाहर आया ......फिर मैंने ऑटो 

ड्राईवर से कहा मेडम को छोड़ दो जहाँ यह जाना चाहती हैं ...........

                  साहब किस मेडम की बात कर रहें है ...........आप तो  अकेले ही आये थे ........किसको 

छोड़ने की बात कर रहे हैं ..............


                सुबह जब आँख खुली तो माँ बता रही थी तू बिल्डिंग के सामने बेहोश पडा था 

..........................निशा भूत  ही थी ...............कोई सीरियल नहीं बन रहा था ...मुझे ऐसा लगा  

No comments:

Post a Comment